अंतरराष्ट्रीय समाचार

आखिर इस झोलाछाप डाक्टर पर कारवायी करने से क्यों बच रहा – स्वास्थ्य विभाग

*आखिर इस झोलाछाप डाक्टर पर कारवायी करने से क्यों बच रहा स्वास्थ्य विभाग*

गाजीपुर जखनिया: कस्बा क्षेत्र में झोलाछाप  डाक्टरों का आतंक इस कदर बढ़ गया है , कि इन  पर कोई कार्यवाही न होने से आये दिन लोगों की जान ले रहे हैं। लगातार हो रही घटनाओं से सरकारी व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं। आखिर इन झोलाछाप डाक्टरों पर शिकंजा कसने में स्वास्थ्य विभाग उदासीनता क्यों बरत रहा है। ऐसा ही एक फर्जी डाक्टर बाजार से सटे भुड़कुडा़ कोतवाली से महज कुछ दूर और एस०डी०एम० आवास के ठीक पीछे चन्द्रावती हेल्थ केयर नाम से है , जिसका रजि .0960 है। जो आये दिन सुर्खियों में बना रहता है। बिना डिग्रीधारी हास्पिटल संचालक राजेश यादव विशेष तौर से बच्चेदानी और शिजेरियन डिलेवरी कराने के लिये जाना जाता है। क्योंकि ऐसे  ऑपरेशन में अच्छी खासी कमाई हो जाती है। सरकारी स्वास्थ्य केन्द्र की महिला कर्मियों की सांठ गांठ यहां मरीजो की खूब भीड़ लगी रहती है।

अगर मरीज बच गया तो वाह-वाह और मर गया तो ऊपर वाले को मंजूर नहीं था , यही कह कर वापस भेज देता है। ऐसे में इस झोलाछाप डॉक्टर के चंगुल में ग्रामसभा गोविंद जखनिया के पाजी मौर्य ने  अपनी पत्नी के ऑपरेशन बच्चेदानी का आपरेशन चंद्रावती हॉस्पिटल में करवाया था | आपरेशन के बाद महिला का पेट फूलता गया , 5 दिन बाद पेशेंट की हॉस्पिटल में मृत्यु हो गई। इसकी शिकायत भुड़कुडा़ कोतवाली में की तथा सम्पूर्ण समाधान दिवस पर तहसील में एस०डी०एम० के समक्ष, जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक एवं मुख्य चिकित्साधिकारी को लिखित प्रार्थना पत्र देकर अपनी शिकायत की | जब इस पर कोई कार्यवाही नहीं हुई , तब उपभोक्ता संरक्षण जिला फोरम, मानवाधिकार आयोग, पुलिस महानिदेशक लखनऊ, स्वास्थ्य राज्य मंत्री उत्तर प्रदेश तथा मुख्यमंत्री तक लिखित प्रार्थना पत्र देकर अपनी शिकायत की , लेकिन इस रसूकदार झोलाछाप डाक्टर के उपर  कोई कारवाही नही हुई।

और उल्टे बदमाशो को लेकर पीडित के घर जाकर धमकी भी देता है। और उल्टे पीडित पर मुकदमा   भी ठोक देता है। कहता है कहीं और ऑपरेशन करवा कर मुझे बेवजह परेशान कर रही है | इस झोलाछाप डॉक्टर की खासियत यह है कि यह  किसी भी मरीज को अपने हॉस्पिटल का डिस्चार्ज लेटर नहीं देता है | और ना ही अपने हॉस्पिटल के नाम की कोई दवा रशीद या कोई सबूत नहीं देता है। ऐसे ही दर्जनों पीड़ित लोग हैं , जो अपने न्याय की गुहार के लिए तहसील मुख्यालय से लेकर , जिला मुख्यालय तक धरना देते हैं। लेकिन अब तक   उनको न्याय नहीं मिला। और न ही अब तक इस झोलाछाप डॉक्टर के ऊपर कोई कार्रवाई हुई।

रिपोर्ट: संवाददाता

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker