अपना ग़ाज़ीपुर

आजाद भारत के 75 साल बाद भी विद्यालय के लिए नहीं बना रास्ता

आजाद भारत के 75 साल बाद भी विद्यालय के लिए नहीं बना रास्ता

सुजीत कुमार सिंह

गाजीपुर से है जहां आजाद भारत के 75 साल बाद भी गाजीपुर के मोहम्मदाबाद तहसील क्षेत्र के ब्लॉक भांवरकोल अंतर्गत चांदपुर गांव के कंपोजित विद्यालय पर आज तक   ना तो सड़क बन पाया है और ना ही बिजली पहुंच पाई है । इस विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र-छात्राएं एवं पढ़ाने वाले अध्यापक एवं अध्यापिका है ।किसान के खेतों के मेढ़ो को पकड़कर प्रतिदिन स्कूल जाते हैं , इसके अलावा इस कंपोजिट विद्यालय पर बच्चों को पढ़ाने के लिए प्रोजेक्ट ब्लूटूथ डिवाइस एवं वाईफाई डिवाइस लगाया गया है ।लेकिन अब तक उस विद्यालय पर बिजली नहीं पहुंच पाई    है , जिससे सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण शोपीस बनकर रह गया है । वही हैंडपंप में लगाए गए , समरसेबल भी नहीं चल पाता है , जिससे बच्चों को पानी मिल सके । यह स्थिति सरकार पर और शासन पर सवालिया निशान खड़ा करता है। चांदपुर कम्पोजिट विद्यालय के छात्राओं ने एवं अध्यापकों ने बताया कि इस बदहाल सड़क से ही हम लोगों को प्रतिदिन स्कूल आना जाना पड़ता है , जहां आज तक रास्ता ही नहीं  है ।किसानों के खेत से होकर आना जाना पड़ता है और किसान भी कई बार आते जाते वक्त डांटते व बोलते हैं वही बारिश के दिनों में सड़क ना होने की वजह से हाथों में चप्पल लेकर विद्यालय आना पड़ता है । किसी किसी दिन तो स्थिति ऐसी होती है कि ज्यादा बारिश हो जाने पर घुटना भर पानी आ जाता है और महिला अध्यापकों को साड़ी हाथ से ऊपर उठा कर हाथ में चप्पल लेकर जाना पड़ता है कभी कबार   तो उस पानी में महिला अध्यापकों व बच्चे गिर भी जाते      हैं ।जिससे उसको पुनः घर जाना पड़ता है और कपड़ा चेंज कर फिर स्कूल आते हैं यह सब कुछ स्कूल के बच्चों और महिला अध्यापकों ने बताया है। इस मामले को लेकर हमने गाजीपुर जिलाधिकारी आर्यका अखौरी से बात किया तो बातचीत में डीएम ने कहा कि यह मामला बेहद गंभीर है  और मैं बीएसए से बात करके वहां बिजली की और व्यवस्था तत्काल कराने का काम करूंगी और सड़क से संबंधित भी ग्राम प्रधान और तमाम लोगों से बात कर किया जाएगा    यदि कोई रास्ते को अवैध कब्जा किया होगा तो उससे भी मुक्त कराया जाएगा।

रिपोर्टर संवाददाता –

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button